Tuesday, September 29, 2020
Home प्रसिद्ध हस्तियां योगी आदित्यनाथ की जीवनी, परिवार, बचपन, सन्यास, राजनीति, विवाद...

योगी आदित्यनाथ की जीवनी, परिवार, बचपन, सन्यास, राजनीति, विवाद…

योगी आदित्य नाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। उन्हे हमेशा भगवा लिबास, माथे पर लाल तिलक, कानों में कुंडल के साथ कट्टर हिंदुत्व वादी फ़ायरब्रांड नेता के रूप में देखा जाता है। सीएम बनने से पहले योगी आदित्यनाथ 5 बार बार गोरखपुर से सांसद रहे। गोरखपुर की राजनीति में उनकी एंट्री एक ‘एंग्री यंग मैन’ की थी। साल 2016 में आरएसएस की मौजूदगी में बीजेपी की तरफ से योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री का शपथ दिलाया गया। मुख्य मंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी के बाद अगले प्रधानमंत्री के रूप में योगी आदित्य नाथ का नाम सामने आ रहा है। ऐसे में उनके राजनीतिक करीयर के बारे में जानना जितना दिलचस्प होगा, उतना ही दिलचस्प मैथ विषय से एमए करने के बाद संयासी बनना। तो आईये जाने योगी आदित्य नाथ के जीवन से जुड़े सभी बातें-



जन्म

योगी आदित्यनाथ का असली नाम अजय सिंह बिष्ट है। उनका जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड के पौड़ी गडवाल जिले में स्थित पंचुर गाँव में हुआ था। वे राजपूत परिवार से आते है। उनके पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट और माता का नाम सावित्री देवी है। वह अपने माता-पिता की पाँचवी संतान है। उनकी तीन बहने और 4 भाई हैं।

Blog

शिक्षा

योगीजी ने 10वीं तक की पढ़ाई टिहरी गडवाल के एक स्कूल में की। उसके बाद वे साल 1989 को ऋषिकेश के भरत मन्दिर इन्टर कॉलेज से 12वी उत्तीर्ण किया। साल 1992 में उन्होंने हेमवती नन्दन बहुगुणा गडवाल यूनिवर्सीटी से मैथ में बीएससी और फिर एमएससी किया।



सन्यास जीवन

पढाई के दौरान, आदित्यनाथ गुरु गोरखनाथ पर शोध करने गोरखपुर आए। तभी महंत अवैद्यनाथ से उनकी मुलाकात हुई और हमेशा के लिए उन्हे अपना गुरू मान लिया। महंत अवैद्यनाथ से उन्होने दीक्षा पाई और साल 1994 में सन्यासी बन गए। बाद में वे नाथ संप्रदाय के सबसे प्रमुख मठ गोरखनाथ मंदिर के उत्तराधिकारी बन गए। उत्तराधिकारी बनने के बाद योगीजी ने कई ऐसे कार्य किए। जैसे- सामाजिक, धार्मिक और कई सांस्कृतिक कार्य, जिसके बाद वे और भी फेमस हो गए। हालांकि इन कार्यों के दौरान उनके भड़काऊ भाषण को लेकर भी कई आरोप लगे।

Blog

लोकसभा सांसद

गोरखनाथ मंदिर के उत्तराधिकारी बनाने के लगभग 4 साल बाद उनके गुरू अवैद्यनाथ ने योगीजी को अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी घोषित कर दिया। बता दे कि महंत अवैद्यनाथ जिस गोरखपुर सीट से 4 बार सांसद रहे। उसी सीट से योगीजी साल 1998 में भाजपा से चुनाव लड़े। 26 हज़ार के मतों से जीतकर योगीजी लोकसभा पहुँचे। तब वे महज 26 साल के थे। इसके बाद वे लगातार 5 बार सांसद बने।



मुख्यमंत्री

योगीजी की लोकप्रियता को देखते हुए भाजपा ने साल 2017 में विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ से राज्य में प्रचार कराया। चुनाव में भाजपा की बंपर जीत हुई। 19 मार्च 2017 में उत्तर प्रदेश के बीजेपी विधायकों ने योगी आदित्यनाथ को विधायक दल का नेता चुना। इस प्रकार योगीजी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।

Blog

हिन्दू युवा वाहिनी का गठन

योगी आदित्यनाथ ने ही हिन्दू युवा वाहिनी (एक निजी सेना) का गठन किया था, जो एक कट्टर हिंदू संगठन है। यह हिंदू विरोधी, राष्ट्र विरोधी और माओवादियों को कंट्रोल करता है। सांप्रदायिक हिंसा फैलाने और मुसलमानों पर हमला करने जैसे कई मामलों को लेकर हिन्दू युवा वाहिनी पर दर्जनों केस दर्ज हैं। साल 2007 में एक हिंदू व्यापारिक की हत्या कर दी गई थी, जिसे हिन्दू युवा वाहिनी सेना ने जोर-शोर से उठाया। ऐसे में गोरखपुर हिंसा के चपेट में आ गई। तत्कालीन सरकार ने इस हिंसा के पीछे संघटन का हाथ बताया। साथ ही योगी आदित्यनाथ को जिम्मेदार ठहराया। इसी दौरान हिंसा कराने के आरोप में योगी आदित्यनाथ को 11 दिनों तक जेल में रखा गया।

Blog

विवादास्पद बयान

सूर्य नमस्कार योग – साल 2015 को योगीजी ने सूर्य नमस्कार न करने वाले और सूर्य नमस्कार के विरोध करने वाले से पाकिस्तान जाने को कहा था। योगीजी ने कहा था- “जो लोग योग नहीं करते या योग में सूर्यनमस्कार नही करना चाहते। उन्हे भारत में रहने का कोई हक़ नहीं हैं। उन लोगों से गुज़ारिश है, जो लोग सूर्य में भी हिन्दू–मुस्लिम देखते हैं, उन्हें डूब कर मर जाना चाहिए।“

गोरखपुर दंगा – साल 2007 में गोरखपुर दंगे के वक्त योगी आदित्यनाथ सांसद थे। इस दौरान उन पर आरोप लगा था कि उनकी भड़काऊ भाषण के बाद ही गोरखपुर में दंगा हुआ था।

शाहरुख़ खान – असहिष्णुता के मुद्दों पर योगीजी ने आतंकवादी हाफ़िज़ सईद से बॉलीवुड स्टार शाहरुख़ खान की तुलना की। असहिष्णुता पर पूछे गए सवाल पर शाहरुख़ के दिए गए बयान से वे भड़क गए। तब उन्होंने कहा- “शाहरुख़ खान को इस देश में बहुसंख्यक समुदाय का ध्यान रखना चाहिए। देश ने उन्हें स्टार बनाया है। यदि देश के लोग उनकी फिल्में देखना छोड़ दें तो उन्हे गलियों में घूमना पड़ेगा।“

असदुद्दीन ओवैसी- कर्नाटक चुनाव में योगीजी ने असदुद्दीन ओवैसी की तुलना आतंकवादी यासीन भटकल से कर दी थी। योगीजी ने कहा- “कांग्रेस जब तक इस देश में रहेगी, तब तक ओवैसी और यासीन भटकल जैसे लोग दुम हिलाते रहेंगे और सत्ता को चुनौती देते रहेंगे।“

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Jyotiba phule : महिलाओं के लिए खोला था पहला स्कूल, महात्मा फूले का जीवनी

ज्योतिबा फुले महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। 19वी सदी में समाज में फैली कई तरह के कुरीतियों को उन्होंने उखार...

नमक कई प्रकार के होते है, जानिए उसके फायदे और नुकसान (Salt)

हम सभी नमक का सेवन करते है। इसमे सोडियम का अच्छा श्रोत पाया जाता है, जो हमारे पाचन क्रिया को बायलेंस करता है। लेकिन क्या आप जानते है कि नमक कितने प्रकार के होते है? आज आपको बताएंगे कि कौन कौन से नमक होते है और कौन से नमक आपके सेहत के लिए फायदेमंद है।

झील में बना भारत का अनोखा महल, पानी में बने 5 मंजिला इमारत की दिलचस्प कहानी

राजस्थान अपने विरास्तों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यहां कुछ ऐसी ऐतिहासिक इमारते है, जो आज भी शानों शौकत से खड़ी है और...

रूस लड़ रहा एक साथ तीन लड़ाई, कोरोना, जंगल की आग और नई सड़क बड़ा ख़तरा

कोरोना वायरस पूरी ​दुनिया के लिए संकट बना हुआ है, जिससे सभी देश लड़ने में लगी हुई है। इसी बीच रूस (Russia) तीसरी मार से जुझ रहा है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) इस समय कोरोना के साथ चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र के पास जंगल में लगी आग और मॉस्को मोटरवे की घटना की मार से जुझ रहे है।

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com