Nirbhaya Case: चारों दोषियों को दी गई फाँसी, आखिर समय तक बचने की कोशिश

दिल्ली में आज से सात साल पहले हुए सामूहिक दुष्कर्म के बाद आज चारों दोषियों को एक साथ फाँसी दी गई। अंतिम समय तक चारों ने बचने के प्रयास किए।

0
187
News
Nirbhaya Case: चारों दोषियों को दी गई फाँसी, आखिर समय तक बचने की कोशिश

दिल्ली में आज से सात साल पहले हुए सामूहिक दुष्कर्म के बाद आज चारों दोषियों को एक साथ फाँसी दी गई। तारीख पर तारीख मिलने के बाद आज सुबह 5.30 बजे दिल्ली की तिहाड़ जेल में फाँसी दे दी गई। हालांकि फाँसी से पहले आरोपियों और उनके वकीलों ने कई दलिले दिए, ताकि फाँसी टल जाए, पर ऐसा नही हुआ।

दोषियों के आखिरी सांस तक क्या क्या हुआ?

  • निर्भया के दोषियों ने गुरूवार को दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दी थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था। इसमे दोषियों ने फांसी की तारीख को आगे बढ़ाने की बात कही थी।
  • इसके बाद दोषियों के वकील एपी सिंह सुप्रीम कोर्ट गये। रात को करीब 3.30 बजे सुप्रिम कोर्ट ने भी इस याचिका को खारिज कर दिया।
  • कंही से राहत नही मिलने के बाद एपी सिंह ने कोरोना को दलिल देकर चारों आरोपियों को बचाने की कोशिश की। 
  • अब दोषियों को बचने के लिए एक भी लाइफ लाइन नही बची थी, जिसके बाद एक साथ चारों आरोपियों को फांसी पर लटकाया गया।

फांसी दिए जाने से पहले

  • सुबह 4 बजे चारों दोषियों को उठाया गया। सभी के नहाने के बाद नए कपड़े पहनने के लिए दिए गए, जिसमे से विनय नाम के आरोपी ने अपने कपड़े नही बदले।
  • जेल प्रशासन की तरफ से सभी आरोपियों से चाय नास्ता पुछा गया, लेकिन किसी ने नास्ता नही किया।
  • चारों आरोपियों से जेल प्रशासन ने आखिरी इच्छा पूछी।
  • सुबह 5.30 बजते ही निर्भया के चारों दोषी पवन, विनय, मुकेश और अक्षय को  फांसी के फंदे पर लटका दिया गया।
  • उसके बाद तिहाड़ जेल में चारों के शव का परीक्षण कर मौत की पुष्टि की गई।
  • चारों शव का हरिनगर में दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में पोस्टमार्टम होगा। चिकित्सकों का पैनल पोस्टमॉर्टम करेगा। उसके बाद शवों को घर वाले को शॉप दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here