Thursday, February 27, 2020
Home विशेष क्या आप जानते हैं कि 26 जनवरी और 15 अगस्त को झंडा...

क्या आप जानते हैं कि 26 जनवरी और 15 अगस्त को झंडा फहराने में फर्क क्या है?

15 अगस्त के दिन झंडे को नीचे से रस्सी द्वारा खींच कर ऊपर चढ़ाया जाता है जबकि 26 जनवरी के दिन पहले से ऊपर बंधे हुए झंडे को केवल फहराया जाता है, ऊपर चढ़ाया नही जाता हैं। जानिए और भी फर्क।

आज 26 जनवरी को पूरा देश गणतंत्र दिवस का उत्‍सव मना रहा है। इस साल हम सभी 71वाँ गणतंत्र दिवस मना रहे है। इसके लिए सबसे पहले तिरंगा झंडा फहराया जाता हैं। गणतंत्र दिवस की तरह ही स्वतंत्रता दिवस के दिन भी झंडा भहराया जाता है। लेकिन बहुत कम लोग ही जानते होंगे कि इन दोनों राष्ट्रीय पर्व को मनाने में क्या फर्क है। आप नही जानते तो हम इसके बारे में बताने जा रहे हैं।

झंडा फहराने में फर्क क्या है?

आप सभी जानते है कि हमारा देश 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था। तब 15 अगस्त के दिन ब्रटिश झंडे को उतारकर भारतीय झंडे को ऊपर चढ़ाया गया था। तब से हर बार 15 अगस्त के दिन झंडे को नीचे से रस्सी द्वारा खींच कर ऊपर चढ़ाया जाता है। इस प्रक्रिया को ध्वजारोहण कहते है। जबकि 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ था। इसलिए इस दिन पहले से ऊपर बंधे हुए झंडे को केवल फहराया जाता है, ऊपर चढ़ाया नही जाता हैं।


झंडा कौन फहराता है?

हर साल 15 अगस्त के दिन हमारे प्रधानमंत्री झंडा फहराते है। वे ही मुख्य कार्यक्रम में शामिल होते हैं। जबकि 26 जनवरी के दिन हमारे राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं। इस दिन राष्ट्रपति मुख्य कार्यक्रम में शामिल होते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रधानमंत्री सरकार व देश के प्रमुख होते हैं, जबकि राष्ट्रपति देश के संवैधानिक प्रमुख होते हैं।

झंडा कहाँ फहराया जाता है?

15 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री लाल किले पर झंडा फहराते है और वंही सभी कार्यक्रम होते है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि 15 अगस्त 1947 में पहला स्वतंत्रता दिवस लाल किले पर ही मनाया गया था। वही 26 जनवरी के दिन आजाद भारत का संविधान लागू होने पर पहले गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन राजपथ पर किया गया था। इसलिए राष्ट्रपति राजपथ पर झंडा फहराते हैं और वंही मुख्य कार्यक्रम किए जाते हैं।

देश को संबोधित कब किया जाता है?

15 अगस्त के मौके पर प्रधानमंत्री लाल किले से देश को संबोधित करते हैं। इसी दिन पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति का अभिभाषण होता है। जबकि 26 जनवरी के मौके पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री, इनमे किसी का भी संबोधन नहीं होता है।



Also Read: Republic Day History: 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Leap Year 2020: क्या होता है लीप ईयर? कैसे करें पता? जानिए

वर्ष 2020 एक लीप ईयर (Leap Year) है। आप सभी जानते है कि 1 साल में 365 दिन होते है, लेकिन 1 साल 366 दिन का भी होता है। साल 2020 में 1 दिन एक्ट्रा होगा। इस 1 दिन को फरवरी माह में जोड़ा जाता है। चूंकि फरवरी 28 दिन के होते है, इसलिए इस माह में एकस्ट्रा 1 दिन को जोड़ दिया जाता है। इसे साल का लीप ईयर और उस दिन को लीप डे कहा जाता है।  

Realme 6 और 6 Pro भारत में 5 मार्च को होंगे लॉन्च, मिलेंगे दमदार फिचर्स

पॉपुलर स्मार्टफोन Realme कंपनी की Realme 6 और Realme 6 Pro के लिए इंतजार की घड़िया खत्म हुई। Realme ने आज लॉन्च डेट की जानकारी दी है। कंपनी के अनुसार, Realme 6 सीरिज़ को 5 मार्च को दोपहर 12.30 बजे भारत मं लॉन्च किया जाएगा। Realme 6 सीरिज के लिए प्री बुकिंग की भी घोषणा की गई है। आप 26 फरवरी से लेकर 4 मार्च तक इस नए फोन को ऑर्डर कर सकते है।

दिल्ली हिंसा को लेकर रजनीकांत ने केंद्रसरकार की निंदा, कहा खुफिया तंत्र की विफलता

दिल्ली सांप्रदायिक हिंसा में अब तक 25 से अधिक लोगों की मौत की खबर हैं। इस सांप्रदायिक हिंसा को लेकर सुपरस्टार रजनीकांत ने केंद्र सरकार की निंदा की है। रजनीकांत ने कहा कि प्रदर्शन के उग्र होने के समय ही कार्रवाई करनी चाहिए थी। हालात पर काबू पाने के लिए पहले ही कोशिश करना चाहिए था। केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि हिंसा केंद्र सरकार की खुफ़िया तंत्र की विफलता है। इसके लिए मैं केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराता हूँ।

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री व अन्य की सैलरी|Salary of President, PM, CM,other

क्या आपको पता है कि हमारे प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, मुख्यमंत्री को कितनी सैलरी मिलती है? यदि आप नही जानते है तो हम आपको उन सभी समवैधानिक, प्रसाशनिक व पुलिस अधिकारियों को मिलने वाली सैलरी के बारे में बताएंगे। साथ ही रेलवे सुरक्षा बल के साथ आर्मी, नेवी और एयर फोर्स को मिलने वाले वेतन की पूरी सूची बताएंगे। 

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com