Saturday, April 4, 2020
Home विज्ञान Leap Year 2020: क्या होता है लीप ईयर? कैसे करें पता? जानिए

Leap Year 2020: क्या होता है लीप ईयर? कैसे करें पता? जानिए

वर्ष 2020 एक लीप ईयर (Leap Year) है। आप सभी जानते है कि 1 साल में 365 दिन होते है, लेकिन 1 साल 366 दिन का भी होता है। साल 2020 में 1 दिन एक्ट्रा होगा। इस 1 दिन को फरवरी माह में जोड़ा जाता है। चूंकि फरवरी 28 दिन के होते है, इसलिए इस माह में एकस्ट्रा 1 दिन को जोड़ दिया जाता है। इसे साल का लीप ईयर और उस दिन को लीप डे कहा जाता है।   

ऐसा होने का क्या कारण है?

हमारी पृथ्वी सूर्य का 1 चक्कर पूरा करने में 365 दिन, 6 घंटे का समय लगाती है। ये 6 घंटे चार साल में 24 घंटे यानि 1 दिन (लीप डे) बन जाता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि यदि 1 दिन को हर चार साल में नही जोड़ा जाए, तो हर साल कैलेंडर से 6 घंटे हट जाएंगे और अगले 100 सालों में कैलेंडर से 24 दिन निकल जाएंगे।   


कैसे पता करते हैं लीप ईयर या नही, क्‍या है नियम

आप सोच रहे होंगे कि वर्ष लीप ईयर है या नही, इसका पता किस तरह लगाए, तो इसके लिए आपको दो बातों का ध्यान रखना पड़ेगा।

पहला यह कि किसी भी साल को चार की संख्‍या से भाग देने पर वह डिवाइड हो जाता है, तो लीप ईयर होगा। मान लीजिए आपने साल 2000 को 4 से डिवाइड किया। इसी तरह 2004, 2008, 2012, 2016 और साल 2020 भी डिवाइड हो जाता है। ये सभी लिप ईयर होगा।

दूसरा यह कि अगर कोई वर्ष 100 की संख्‍या से डिवाइड हो जाए, तो वह लीप ईयर नहीं है, लेकिन अगर वही वर्ष पूरी तरह से 400 की संख्‍या से डिवाइड हो जाता है, तो वह लीप ईयर कहलाएगा। मान लीजिए वर्ष 1300 को 100 से भाग देते है तो विभाजित हो जाती है, लेकिन यह 400 से विभाजित नही होगी। जो साल 400 से विभाजित नही होगी। वह लीप ईयर नही होगा।

पहला लीप वर्ष कब हुआ था?

मान्यता है कि प्रभु यीशु के जन्म वर्ष के 4 साल बाद पहला लीप ईयर आया था। तभी से हर चार साल पर लीप ईयर पड़ता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Corona Update: कोरोना से देश में 68 मौतें, 1965 संक्रमित, 151 मरीज हुए ठीक

देश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है। कोरोना से अब तक 68 लोगों की मौत हो चुकी है। आज ही 6 लोगों की मौत हो गई है। वही देश में 1965 लोग कोरोना से संकमित है। अब तक 151 मरीज ठीक हो चुके है।

गांव लौट रहे लोगों पर नीतीश ने कहा- प्रधानमंत्री का लॉकडाउन फेल हो जाएगा

कोरोना वायरस के आतंक से दूसरे राज्यों से लोग अपने गांव लौट रहे है। इस पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इससे प्रधानमंत्री का लॉकडाउन फेल हो जाएगा। दिल्ली और उत्तर प्रदेश को बर्डर पर भंसे लोगों को निकालने के लिए दिल्ली और यूपी के सीएम ने बस का इंजाम कर दिया है, ताकि लोग घर जा सके है। बसों की व्यवस्था पर नीतीश कुमार ने सवाल उठाए हैं। नीतीश ने कहा कि दिल्ली से या कहीं से भई लोगों को बुलाने से समस्या और बढ़ेगी। बिहार सरकार चाहती है कि जो जहां है वहीं उनके रहने खाने की व्यवस्था की जाए। बसों से लोगों को बुलाने से लॉकडाउन का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। नीतीश कुमार लॉकडाउन में फंसे लोगों को बुलाने के फैसले को गलत ठहराते हुए कहा कि इससे प्रधानमंत्री का लॉकडाउन फेल हो जाएगा।

कोरोना को लेकर भारत के कदम पर WHO ने की तारिफ, कहा- भारत पर निर्भर कोरोना

कोरोना से निपटने के लिए भारत के उठाए गए कदम की विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) ने तारिफ की है। डब्लूएचओ के निदेशक डॉ. माइकल जे रायन ने कहा है कि भारत में जबरदस्त क्षमता है। स्मॉल पॉक्स और पोलियो के उन्मूलन में भारत ने दुनिया का नेतृत्व किया। चीन की तरह भारत बहुत बड़ी जनसंख्या वाला देश है। ऐसे में भारत भी बड़ी आबादी वाला देश होने के कारण कार्रवाई पर निर्भर करता है कि आने वाले समय में कोरोना का क्या असर रहेगा।

क्या खत्म हो जाएगी दुनिया? जब पृथ्वी से एवरेस्ट से बड़ा उल्का पिंड टकराएगा

कोरोना के महामारी के बीच दुनिया खत्म होने वाली खबर आ रही है। कहा जा रहा है कि पृथ्वी पर अतरिक्ष से तबाही आने वाला है। नाशा (NASA) ने दावा किया है कि पृथ्वी की ओर एक बहुत बड़ा एस्टेरॉयड (छोटा तारा) तेजी से आ रहा है। यह उल्का पिंड धरती के सबसे ऊंचे पहाड़ माउंट एवरेस्ट से भी कई गुना बड़ा है। ऐसे में लोगों में भय है कि ये धरती से टकरायएगा और दुनिया खत्म हो जाएगी।

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com