Wednesday, August 5, 2020
Home ताजा ख़बर जब दुर्लभ बीमारी से पीड़ित हुए Salman Khan, ऐसे बची उनकी जान!...

जब दुर्लभ बीमारी से पीड़ित हुए Salman Khan, ऐसे बची उनकी जान! जानें सबकुछ

सलमान खान सुसाइड डिजीज ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया के शिकार हुए थे। जिसे साधारण भाषा में कहे तो यह चेहरे से जुड़ी एक बीमारी है। इस बीमारी में असहनीय दर्द होता है और ये दर्द कुछ सेकंड या कुछ मिनट तक रह सकता है।

बॉलीवुड के सुपर स्टार सलमान खान (Salman Khan) 54वे साल में कदम रख चुके है। इसके
बावजूद वो इतने फिट हैं कि शायद उनके उम्र पर किसी को यकीन ना आए, लेकिन यही सत्य है। सलमान खान का जन्म 27 दिसंबर 1965 को मुंबई में हुआ था। उनका पूरा नाम अब्दुल राशिद सलीम सलमान खान है। सलमान खान के पिता सलीम खान हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने स्क्रिप्ट राइटर हैं। उन्होंने फिल्म शोले, दीवार, डॉन और ज़जीर जैसी बेहतरीन फिल्में लिखी है। सलमान खान 54 साल की उम्र में भी बहुत ही ज्यादा फिट है, लेकिन कुछ साल पहले सलमान खान को एक बेहद खतरनाक बीमारी हो गई थी। इस बीमारी को दुनिया की सबसे दर्दनाक बीमारियों में गिना जाता है। इस बीमारी का नाम ‘ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया’ है जिससे पीड़ित मरीज़ आत्महत्या तक कर लेता है। आज इसी गंभीर बीमारी के बारे में जानेंगे।



सुसाइड डिजीज के शिकार थे सलमान 

साल 2017 में सलमान खान ने अपने इंटरव्यू के दौरान बताया था कि वे सुसाइड डिजीज ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया के शिकार हुए थे। जिसे साधारण भाषा में कहे तो यह चेहरे से जुड़ी एक बीमारी है। इस बीमारी में असहनीय दर्द होता है और ये दर्द कुछ सेकंड या कुछ मिनट तक रह सकता है। हालांकि इस गंभीर बीमारी के इलाज के लिए सलमान खान अमेरिका गए थे और अब बिलकुल ठीक हो गए है। फिर भी सलमान खान को कुछ चीजों से परहेज करने है, जिससे ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया नामक बीमारी दोबारा ना हो।

Blog

गुस्सा करने से नसों में होती है दिक्कत

हाल ही में सलमान खान से जुरी रियलिटी शो बिग बॉस के बारे में एक ख़बर आई थी कि वे इस शो के कारण अधिक गुस्सा कर रहे है। जिससे उनकी नसों में दिक्कतें आ रही है। ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया की बीमारी में सलमान खान अधिक गुस्सा नही कर सकते। इससे उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुँच सकता हैं।

बीमारी के लक्षण

  • ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया चेहरे की बीमारी है, इसलिए चेहरे पर हल्का या असहनीय दर्द हो सकता है।
  • जिस तरह से बिजली के झटके लगने पर झनझनाहट होती है वैसे ही इस बीमारी में भी महसूस हो सकता है।
  • बात करने और हंसने के दौरान दर्द हो सकता है।
  • दांत साफ करने के लिए ब्रश करते समय दर्द शुरू हो सकता है।
  • हवा के तेज झोकों के छू जाने से भी दर्द हो सकता है।

बीमारी का कारण

  • यह खतरनाक बीमारी ट्यूमर या किसी दुर्घटना के दौरान नश के दब जाने के कारण होता है।
  • यह मल्टीपल स्केलेरोसिस से ग्रसित मरिजों को हो सकता है। ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया बीमारी होने का खतरा उम्रदराज लोगों में अधिक होता है। खासकर 50 साल से अधिक उम्र के लोगों में देखा गया है।
  • महिलाओं में ये बीमारी पुरूषों से ज्यादा होती है।
  • जेनेटिक्स कारकों के कारण भी यह बीमारी होता है।

इलेक्ट्रिकल स्टिम्युलेशन का इलाज

इस बीमारी का इलाज इसके लक्षणों पर निर्भर करता है। अगर चेहरे के एक साइड में दर्द होता है तो दवाओं के जरिए नसों पर पड़ने वाले प्रेशर को कम करके इस बीमारी को ठीक करने की कोशिश किया जाता है। अगर तब भी ठीक न हो तो दबी हुई नसों या ऐसी किसी भी परेशानी के लिए सर्जरी करने की आवश्यकता पड़ सकती है। जैसे रेडियो सर्जरी, इलेक्ट्रिकल स्टिम्युलेशन या ओपन सर्जरी।

हल्का क्सरसाइज दर्द करें कम

ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया के मरीजों को हर दिन हल्का योग या व्यायाम करना चाहिए। कुछ ऐसे एक्सरसाइज है जो दर्द को कम कर सकता है। बेहतर यही होगा कि आप अपने डॉक्टर से ये सलाह लेकर करें।



हेल्थ से जुड़ी सभी खबरों को पढ़ें:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Jyotiba phule : महिलाओं के लिए खोला था पहला स्कूल, महात्मा फूले का जीवनी

ज्योतिबा फुले महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। 19वी सदी में समाज में फैली कई तरह के कुरीतियों को उन्होंने उखार...

नमक कई प्रकार के होते है, जानिए उसके फायदे और नुकसान (Salt)

हम सभी नमक का सेवन करते है। इसमे सोडियम का अच्छा श्रोत पाया जाता है, जो हमारे पाचन क्रिया को बायलेंस करता है। लेकिन क्या आप जानते है कि नमक कितने प्रकार के होते है? आज आपको बताएंगे कि कौन कौन से नमक होते है और कौन से नमक आपके सेहत के लिए फायदेमंद है।

झील में बना भारत का अनोखा महल, पानी में बने 5 मंजिला इमारत की दिलचस्प कहानी

राजस्थान अपने विरास्तों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यहां कुछ ऐसी ऐतिहासिक इमारते है, जो आज भी शानों शौकत से खड़ी है और...

रूस लड़ रहा एक साथ तीन लड़ाई, कोरोना, जंगल की आग और नई सड़क बड़ा ख़तरा

कोरोना वायरस पूरी ​दुनिया के लिए संकट बना हुआ है, जिससे सभी देश लड़ने में लगी हुई है। इसी बीच रूस (Russia) तीसरी मार से जुझ रहा है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) इस समय कोरोना के साथ चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र के पास जंगल में लगी आग और मॉस्को मोटरवे की घटना की मार से जुझ रहे है।

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com