Friday, July 10, 2020
Home प्रसिद्ध हस्तियां पंकज त्रिपाठी की जीवनी, करियर, स्ट्रगल, फिल्में, वेब सिरीज़, अफेयर, रोचक बातें...

पंकज त्रिपाठी की जीवनी, करियर, स्ट्रगल, फिल्में, वेब सिरीज़, अफेयर, रोचक बातें…

पंकज त्रिपाठी एक ऐसे अभिनेता है, जिनकी एक्टिंग के लोग कायल है। चाहे फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में सुल्तान कुरैशी का निभाया गया किरदार हो या फिल्म ‘स्त्री’ में रूदा का विंदास अभिनय, या फिर वेब सीरिज़ ‘मिर्जापुर’ में बाहुबली कालिन भैया का अंदाज ए बयां। सभी किरदारों में वह सहज मालूम पड़ते हैं।

पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi)बॉलीवुड के बेहतरीन अभिनेता है, जिनकी एक्टिंग के लोग कायल है। चाहे फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में सुल्तान कुरैशी का निभाया गया किरदार हो या फिल्म ‘स्त्री’ में रूदा का विंदास अभिनय, या फिर वेब सीरिज़ ‘मिर्जापुर’ में बाहुबली कालिन भैया का अंदाज ए बयां। पंकज त्रिपाठी सभी फिल्मों में बड़े सहज मालूम पड़ते हैं। वैसे पंकज भैया अपनी निजी जीवन में भी बड़े सहज और सरल हैं। आईये उनके जीवन से जुड़े सभी पहलुओं पर नजर डालते हैं।


जीवन परिचय

पंकज त्रिपाठी का जन्म बिहार राज्य के गोपालगंज जिले में स्थित बेलसंद गांव में हुआ था। 5 सितंबर 1976 को जन्मे पंकज के पिता एक किसान और धार्मिक व्यक्ति हैं और माँ गृहिणी है। उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई गोपालगंज स्थित डी. पी. एच. स्कूल में की। पढ़ाई के दौरान खेतों में भी काम किया। फिर आगे की पढ़ाई के लिए वे पटना चले गए, जहाँ से उन्होंने होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई की। इस दौरान अपना खर्च निकालने के लिए उन्होंने रेस्टोरेंट में नौकरी भी की।

Blog

12 वर्ष की आयु में की पहली एक्टिंग

छोटे से गाँव में पैदा हुए पंकज बचपन से अभिनय में दिलचस्पी रखते थे। यही कारण है की वे महज 12 वर्ष की आयु में गांव में होने वाली ‘छठ महोत्सव’ में एक लड़की का किरदार निभाया था। इसके बाद वे हर साल इस महोत्सव का हिस्सा बनते रहे। पिताजी उन्हे डॉक्टर बनते देखना चाहते थे, इसीलिए उन्होने पंकज को पटना पढ़ाई के लिए भेजा, लेकिन कलाकार पंकज को डॉक्टर बनने में कोई दिलचस्पी नही थी। तब पंकज ने एक्टिंग फिल्ड में करियर बनाने का निर्णय लिया।

Blog

नाटक से की करियर की शुरूआत

पटना में पढ़ाई के दौरान पंकज ने विभिन्न नाटक कार्यक्रमों में जाना शुरू किया। कुछ समय बाद 1995 में उन्हें भीष्म साहनी की कहानी पर आधारित नाटक “लीला नंदलाल की” में अभिनय करने का मौका मिला। इस नाटक में पंकज ने एक चोर की भूमिका निभाई थी, जिसे दर्शकों ने काफी सराहा। इसके बाद से पंकज रंगमंच के नियमित कलाकार बन गए।


NSD में दो बार हुए रिजेक्ट

पटना में लगभग 4 सालों तक नियमित अभ्यास करने के बाद वे दिल्ली चले गए। जहाँ स्थित नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (NSD) में अध्ययन किया। हालांकि एन एस डी में उन्हे दो बार रिजेक्शन का भी सामना करना पड़ा था। तीसरी बार में उनका एडमिशन हो पाया था। खैर, एन एस डी के बाद पंकज एक बार फिर पटना वापस आ गए। वहाँ उन्होंने लगभग 4 महीनें तक थियेटर किया। अभिनय के सारे गुड़ सीख लेने के बाद पंकज ने मुंबई जाने का फैसला किया।

Blog

मुंबई में 10 साल से भी अधिक किया स्ट्रगल

पंकज पटना से अपने सारे सपने और उम्मीदें के साथ 16 अक्टूबर 2004 को मुंबई आ गए। नये शहर मुंबई में काम ढूंढना आसान नही था। प्रोडक्शन हाउस के काफी चक्कर काटने के बाद पहली बार 2004 में आई फिल्म ‘ऱन’ में उन्हे एक्टर विजय राज के साथ, एक छोटी सी भूमिका को निभाने का मौका मिला। स्ट्रगल अब भी जारी था। खर्च चलाना मुश्किल हो रहा था।

Blog

मुंबई में उनके साथ उनकी पत्नी भी रहती थी, वह बीएड की हुई थी, इसलिए उन्होंने  एक स्कूल में नौकरी कर ली। उससे किसी तरह परिवार का गुजारा चलने लगा। उधर पंकज का स्ट्रगल जारी था और फिल्मों में छोटे मोटे सीन करते रहे। ये सिलसिला लगभग 10 सालों तक चला। इस दौरान उन्होंने टीवी सीरियल, व्यवसायिक फिल्में और एड में ढेर सारे काम किये, लेकिन इससे उन्हे खास पहचान नही मिली।

Blog

सफलता

पंकज के लाइफ में लर्निंग प्वाइंट तब आया जब उन्हे फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में अभिनय करने का मौका मिला। पंकज को ये फिल्म लगभग 8 घंटे की ऑडिशन के बाद मिली थी। इस फिल्म के डायरेक्टर अनुराग कश्यप थे। फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर इतनी हिट हुई कि सुल्तान मिर्ज़ा के किरदार में पंकज प्रसिद्ध हो गए। इस सफलता के बाद बॉलीवुड से बड़ी- बड़ी फिल्मों के ऑफर आनी शुरू हो गई। इस दौरान उन्होंने ‘रंगरेज’, ‘फुकरे’, ‘निल बट्टे सन्नाटा, ‘बरेली की बर्फी’ जैसी व्यवसायिक फ़िल्मों के साथ, ‘मसान’ और ‘मांझी द माउंटेन मैन’, जैसी आर्ट फ़िल्में भी की।

Blog

इन फिल्मों में किया बेहतरीन अभिनय

ग्लोबल बाबा – आध्यात्मिक मुद्दों पर आधारित फिल्म ‘ग्लोबल बाबा’ में पंकज त्रिपाठी मौनी बाबा के किरदार में नजर आए थे। फिल्म में बाबाओं के आभामंडल को चुनौती दी जाती है। कहानी को अच्छा लिखा गया था, लेकिन फिल्म पर्दे पर कुछ खास कमाल नही कर पाई।

मसान – यह फिल्म 2015 की सबसे बेहतरीन फिल्मों में से एक थी, जिसमे पंकज त्रिपाठी प्रभावशाली भूमिका में नजर आए थे।

स्त्री – फिल्म भूत-प्रेत पर प्रचलित अवधारणाओं पर आधारित हैं, जिसमे पंकज त्रिपाठी यानि रुद्रा स्त्री की सच्चाई से परिचित कराते है। रुद्रा के किरदार में पंकज त्रिपाठी को काफी पसंद किया गया था। 

नक्सल – फिल्म नक्‍सल प्रभावित इलाके में सालों बाद इलेक्‍शन कराने जैसे मुद्दे पर बनाई गई थी। फिल्म में पंकज त्रिपाठी असिस्टेंट कमांडेट आत्मा सिंह का किरदार निभाये थे। इस फिल्म को ऑस्‍कर सम्मान के लिए नामांकित किया गया था।

कॉफी विद ड – फिल्‍म में डॉन के इंटरव्‍यू, इंटरव्‍यू की तैयारी और इसके इर्द-गिर्द हंसी की फुहारे हैं। इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी अपनी कॉमिक टाइमिंग से सबका दिल जीत लिया था। 


फेमस वेब सिरीज़

सेक्रेड गेम्स पंकज पॉपुलर वेब सीरिज़ सेक्रेड गेम्स के पहले सीरिज़ में गायतोंडे के किरदार में काफी लोकप्रिय हुए थे। वही दूसरे सीरिज़ में वे गुरुजी (guruji) के रोल में नजर आएं थे। 

मिर्जापुर – पंकज त्रिपाठी इस वेब सीरिज़ में निगेटिव शेड में दिखे थे। अब ‘मिर्जापुर-2‘ आने वाली है। इसका टीजर रिलीज किया जा चुका है, जिसमें पंकज त्रिपाठी और भी खतरनाक रोल में नजर आने वाले है।

क्रिमिनल जस्टिस वकील माधव मिश्रा के रोल में पंकज त्रिपाठी दिखाई दिए थे। ये एक कोर्टरूम ड्रामा थी, जिसमे एक मर्डर की इंवेस्टिगेशन को दिखाया गया था।

Blog

कुछ रोचक बातें:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Jyotiba phule : महिलाओं के लिए खोला था पहला स्कूल, महात्मा फूले का जीवनी

ज्योतिबा फुले महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। 19वी सदी में समाज में फैली कई तरह के कुरीतियों को उन्होंने उखार...

नमक कई प्रकार के होते है, जानिए उसके फायदे और नुकसान (Salt)

हम सभी नमक का सेवन करते है। इसमे सोडियम का अच्छा श्रोत पाया जाता है, जो हमारे पाचन क्रिया को बायलेंस करता है। लेकिन क्या आप जानते है कि नमक कितने प्रकार के होते है? आज आपको बताएंगे कि कौन कौन से नमक होते है और कौन से नमक आपके सेहत के लिए फायदेमंद है।

झील में बना भारत का अनोखा महल, पानी में बने 5 मंजिला इमारत की दिलचस्प कहानी

राजस्थान अपने विरास्तों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यहां कुछ ऐसी ऐतिहासिक इमारते है, जो आज भी शानों शौकत से खड़ी है और...

रूस लड़ रहा एक साथ तीन लड़ाई, कोरोना, जंगल की आग और नई सड़क बड़ा ख़तरा

कोरोना वायरस पूरी ​दुनिया के लिए संकट बना हुआ है, जिससे सभी देश लड़ने में लगी हुई है। इसी बीच रूस (Russia) तीसरी मार से जुझ रहा है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) इस समय कोरोना के साथ चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र के पास जंगल में लगी आग और मॉस्को मोटरवे की घटना की मार से जुझ रहे है।

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com