कोरोना वायरस से दुनिया को बचाने के लिए सिर्फ 2 घंटे सो रही ये महिला साइंटिस्ट

एक महिला साइंटिस्ट जानलेवा कोरोना वायरस से दुनिया को बचाने के लिए मात्र 2 घंटे सो रही है। वे पहले भी इबोला, जीका जैसी खतरनाक बीमारियों को रोकने के लिए दवाएँ बनाई थी।

1
266
Blog
कोरोना वायरस से दुनिया को बचाने के लिए सिर्फ 2 घंटे सो रही ये महिला साइंटिस्ट

चीन में कोरोना वायरस से लगातार लोगो की मौत हो रही है। वहां से जो तस्वीरे सामने आ रही है वह दिल दहला देने वाला है। डॉक्टर और साइंटिस्ट एंटी कोरोना वायरस की दवाएं बनाने में लगातार काम कर रहे है, लेकिन अब तक कोई सफलता हाथ नही लगी है। ऐसे में एक खबर आई है कि एक महिला साइंटिस्ट जानलेवा कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए दिन-रात काम कर रही है। महिला साइंटिस्ट केट ब्रोडरिक स्कॉटलैंड की रहने वाली है और वो कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैक्सीन बनाने की कोशिश कर रही हैं। रिपोर्ट के अनुसार, महिला साइंटिस्ट वैक्सीन के आविष्कार के लिए रात में केवल 2 घंटे ही सो रही हैं, ताकि जल्द से जल्द इसमे सफलता हासिल कर पाए।

कई खतरनाक बीमारियों की दवाएँ बना चुकी है ब्रोडरिक

बता दे कि ब्रोडरिक को इबोला, जीका जैसी खतरनाक बीमारियों को रोकने के लिए दवाएँ बनाने में सफलता मिल चुकी है। ब्रोडरिक लगभग 20 सालों  इस तरह के खतरनाक बीमारियों के लिए वैक्सीन तैयार कर रही हैं। इस समय डॉ. ब्रॉडरिक चूहे और सूअर पर वैक्सीन टेस्ट कर रही हैं।

डॉ. ब्रॉडरिक को विश्वास है कि वह जल्द कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैक्सीन तैयार कर लेगी। उन्होंने कहा- “मैं पूरी जिंदगी बदलाव लाने के लिए काम की हूँ, इसलिए किसी भी शर्त पर कोरोना वायरस से लोगों के बचाव के लिए वैक्सीन तैयार करूंगी।”



दो बच्चों की मां के पास रिसर्च के लिए है एक टीम

बता दे कि डॉ. ब्रॉडरिक अमेरिका के यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के साथ मिलकर काम करती है। उनके पास रिसर्च के लिए एक टीम है। डॉ. ब्रॉडरिक दो बच्चों की मां भी है। वह अपने बच्चों के साथ छुट्टियां बिता रही थीं। इसी दौरान उन्हें कोरोना वायरस के बारे में पता लगा। उसके बाद जैसे ही चीनी अधिकारियों ने कोरोना वायरस का जेनेटिक कोड जारी किया। डॉ ब्रॉडरिक 3 घंटे में वैक्सीन तैयार कर ली और उसे अगले ही दिन फैक्ट्री में भेज दिया। आशा है डॉ. ब्रॉडरिक इस काम में जल्दी सफलता मिले।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here