Friday, June 5, 2020
Home शहर & राज्य जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो नए केंद्र शासित प्रदेश का इतिहास व वर्तमान...

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो नए केंद्र शासित प्रदेश का इतिहास व वर्तमान स्थिति जानें

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख आजादी के बाद से 31 अक्टूबर 2019 तक एक ही राज्य का हिस्सा था। इस बीच जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा (आर्टिकल 370 और 35A) मिला हुआ था, जिसे समाप्त कर भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर को केंद शासित प्रदेश बना दिया। साथ ही लद्दाख को जम्मू- कश्मीर से अलग दूसरा केंद शासित प्रदेश का दर्जा दे दिया। लेकिन क्या आप जानते है कि लद्दाख और जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्सा कैसे बना? आज हम इन दोनों केन्द्र शासित प्रदेशों के इतिहास से जुड़े तथ्य और वर्तमान स्थिति पर नजर डालेंगे।


कैसे बना भारत का हिस्सा

देश के बंटवारे से अपनी बात शुरू करे तो पता चलता है कि कश्मीर के तत्कालीन शासक महाराजा हरि सिंह भारत में विलय के खिलाफ थे। वे नही चाहते थे कि जम्मू-कश्मीर भारत या पाकिस्तान का भी हिस्सा बनें। हरि सिंह जम्मू-कश्मीर को इंटेपेंडेट राष्ट्र बनाना चाहते थे। पर जब 1948 में पाकिस्तानी सेना ने कबायलियों के साथ मिलकर जम्मू- कश्मीर पर हमला किया और उसके बहुत बड़े भू भाग पर कब्जा कर लिया। तब हरि सिंह ने जम्मू-कश्मीर को भारत में विलय करना ही मुनासिब समझा। इसके बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तानी हमले का मुंह तोड़ जवाब देकर उन्हें खदेड़ दिया। इस तरह जम्मू-कश्मीर को भारत का हिस्सा बनाया गया। 
                             Vs
लद्दाख का इतिहास लगभग 2 हजार साल से भी अधिक पुराना है। तब लद्दाख जम्मू-कश्मीर का हिस्सा नही था। लद्दाख जम्मू-कश्मीर का हिस्सा कब बना इसे समझने के लिए हमे इतिहास को समझना पड़ेगा। इतिहास के ज्यादा पीछे न जाकर 17वी सदी की बात करे तो हमे पता चलता है कि लद्दाख का तिब्बत से जब विवाद चल रहा था। इसी दौरान लद्दाख ने खूद को भूटान में विलय कर लिया। इसके बाद कश्मीर के डोगरा वंश के शासकों ने 19वीं सदी में लद्दाख को अपने कब्जे में ले लिया। इस तरह बढ़ते विवाद को देखकर 1834 में महाराजा रणजीत सिंह के एक सैन्य अधिकारी ने लद्धाख पर हमला बोल दिया। इस हमले में रणजीत सिंह की विजय हुई। कुछ समय बाद जम्मू-कश्मीर में लद्दाख को मिला दिया।

भूगोल

जम्मू-कश्मीर हिमालय की चोटियों और खूबसूरत वादियों में बसा हुआ हैं। यह केंद्र शासित प्रदेश हिमाचल प्रदेश और पंजाब के उत्तर में और लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश के पश्चिम से जुड़ा हुआ है। जम्मू, जम्मू कश्मीर की जाड़े की राजधानी है, जबकि कश्मीर में स्थित श्रीनगर गर्मी के मौसम की राजधानी है। इस प्रदेश में कूल 20 जिले हैं।
                            Vs
कहा जाता है कि लद्दाख किसी बड़ी झील का हिस्सा हुआ करता था, जो बाद में भौगोलिक परिवर्तनों के कारण लद्दाख की घाटी के रूप में तबदिल हो गया। जम्मू-कश्मीर की तरह ही लद्दाख भी हिमालय के गोद में बसा हुआ है, जो उत्तर में काराकोरम पर्वत और दक्षिण में हिमालय पर्वत के बीच में स्थीत है। लद्दाख की राजधानी लेह है, जिसमे दो जिले हैं।



अर्थव्यवस्था

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के राजस्व का अधिकतर हिस्सा पर्यटन और केसर, मेवा, ऊन, हथकरघा और सेब के व्यापार से पूर्ती होता हैं। हालांकि जम्मू-कश्मीर के अधिकतर लोग जीवन यापन के लिए कृषि कार्य भी करते है। इसमे चावल, गेहूँ, मक्का, जौ, दालें, तिलहन व तम्बाकू पहाड़ी ढलानों पर उपजाते हैं। एक व्यापारिक संगठन का कहना है कि धारा 370 हटाए जाने के बाद इंटरनेट सेवाएं बंद होने, आंदोलन और हड़ताल से प्रदेश की अर्थव्यवस्था को 15 हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। हालांकि आतंकवादी गतिविधियों के चलते भी जम्मू-कश्मीर की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ता हैं। यहाँ बड़ी कंपनियां बड़ा निवेश करने से बचती हैं।
                             Vs
लद्दाख की अर्थव्यवस्था छोटे खेतों और चरवाहों पर आधारित होता है। पशु धन लद्दाख की अर्थव्यवस्था का एक प्रमुख हिस्सा है। विशेष रूप से भेड़, बकरियों और गायों का पशु पालन यहाँ किया जाता हैं। बता दे प्राचीन काल में लद्दाख कई अहम व्यापारिक रास्तों का बड़ा केंद्र था। लद्दाख के रास्ते दूसरे देशों से ऊँट, घोड़े, खच्चर, कालीन और रेशम लाए जाते थे। साथ ही लोग तिब्बत से भी याक पर पश्मीना ऊन, आदि लेकर लेह तक पहुँचते थे। तब वहाँ से कश्मीर लाकर बढ़िया किस्म की शॉलें बनाई जाती थीं।




पर्यटन स्थल

  • वैष्णो देवी मंदिर : शक्ति को समर्पित इस मंदिर मे माथा टेकने के लिए लाखों तीर्थयात्री हर साल जाते है। मंदिर 5,200 फ़ीट की ऊंचाई पर जम्मू से लगभग 142 किमी दूर स्थित हैं।
  • डल झील : यह झील श्रीधर पर्वत पर स्थित है। यहाँ आने वाले पर्यटक होटल में रहने के बजाए डल झील पर एक किराए का हाउस बोट लेना पसंद करते है।
  • अमरनाथ : भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर भारत में सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। अमरनाथ गुफा प्राकृतिक रूप से बर्फ से निर्मित शिवलिंग को प्रदर्शित करता है, जिसे दर्शन करने के लिए लाखों यात्री यहाँ आते हैं।
  • पुलवामा : पुलवामा का नाम तो आपने सुना ही होगा। यह श्रीनगर जिले का एक छोटा शहर है, जो अपने प्राकृतिक झरनों और प्राकृतिक घाटियों के साथ, सेब के बागों के लिए जाना जाता है। बता दे पुलवामा प्राकृतिक सुंदरता और समृद्ध संस्कृति के साथ यहाँ प्रसिद्ध मंदिर भी स्थित है।
                              Vs
  • लेह लद्दाख : अगर धरती पर कहीं स्वर्ग है तो वो लेह लद्दाख में है! भारत के सबसे खूबसूरत पर्यटन स्थल में एक लद्दाख है, जो काराकोरम रेंज में सियाचिन ग्लेशियर से लेकर दक्षिण में ग्रेट हिमालय तक का क्षेत्र कवर करता है।
  • ब्लू पैंगोंग झील : यह हिमालय में स्थित सबसे प्रसिद्ध झील है। झील 12 किमी की लंबाई में फैली हुई है, जो तिब्बत तक मिलती है। पैंगोंग झील लगभग 43 हजार मीटर की ऊंचाई पर होने के कारण वहाँ का तापमान -5 डिग्री सेल्सियस से 10 डिग्री सेल्सियस तक रहता है।
  • लेह पैलेस : लेह पैलेस लद्दाख का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थल है, जिसे भारत की ऐतिहासिक धरोहरों में गिना जाता है। लेह पैलेस पुराने समय की सबसे ऊँची इमारत है जिसमें नौ मंजिलें हैं।
  • स्टोक पैलेस: यह एक ऐतिहासिक खूबसूरत महल हैं, जो अपनी वास्तुकला, डिजाइन, सुंदर उद्यानों और अद्भुत दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है। इस महल में शाही पोशाक, मुकुट और अन्य शाही सामग्रियों का संग्रह हैं।
  • माउंटेन बाइकिंग : लेह-लद्दाख के माउंटेन में हर साल हजारों पर्यटक खड़ी ढ़लानों और एड्रेनालाईन के मार्गों पर बाइकिंग का मजा लेने के लिए आते हैं। अगर आप भी माउंटेन बाइकिंग का मजा लेना चाहते है तो मई से सितंबर महीने में जाए। यह समय बाइकिंग के लिए सबसे अनुकूल होता है।

क्षेत्रफल

भारत के 9 केंद्र शासित प्रदेशों में जम्मू-कश्मीर क्षेत्रफल के लिहाज से सबसे बड़ा प्रदेश है। इसका कूल क्षेत्रफल 163,040 वर्ग किमी हैं।
                           Vs
लद्दाख का क्षेत्रफल केंद्र शासित प्रदेशों में जम्मू-कश्मीर के बाद दूसरे नंबर पर हैं। इसका कूल क्षेत्रफल 59,196 वर्ग किमी हैं।

जनसंख्या

2011 की जनगणना के अनुसार जम्मू-कश्मीर की कूल आबादी 1 करोड़ 25 लाख हैं। इसमे ग्रामीण आबादी 90 लाख 65 हजार के करीब है और शहरी आबादी 32 लाख 3 हजार के करीब।
                          Vs
लद्दाख की जनसंख्या 27 लाख 4 हजार है, जिसमे ग्रामीण आबादी 43 हजार 850 के करीब है और शहरी आबादी लगभग 2 लाख 30 हजार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Jyotiba phule : महिलाओं के लिए खोला था पहला स्कूल, महात्मा फूले का जीवनी

ज्योतिबा फुले महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। 19वी सदी में समाज में फैली कई तरह के कुरीतियों को उन्होंने उखार...

नमक कई प्रकार के होते है, जानिए उसके फायदे और नुकसान (Salt)

हम सभी नमक का सेवन करते है। इसमे सोडियम का अच्छा श्रोत पाया जाता है, जो हमारे पाचन क्रिया को बायलेंस करता है। लेकिन क्या आप जानते है कि नमक कितने प्रकार के होते है? आज आपको बताएंगे कि कौन कौन से नमक होते है और कौन से नमक आपके सेहत के लिए फायदेमंद है।

झील में बना भारत का अनोखा महल, पानी में बने 5 मंजिला इमारत की दिलचस्प कहानी

राजस्थान अपने विरास्तों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यहां कुछ ऐसी ऐतिहासिक इमारते है, जो आज भी शानों शौकत से खड़ी है और...

रूस लड़ रहा एक साथ तीन लड़ाई, कोरोना, जंगल की आग और नई सड़क बड़ा ख़तरा

कोरोना वायरस पूरी ​दुनिया के लिए संकट बना हुआ है, जिससे सभी देश लड़ने में लगी हुई है। इसी बीच रूस (Russia) तीसरी मार से जुझ रहा है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) इस समय कोरोना के साथ चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र के पास जंगल में लगी आग और मॉस्को मोटरवे की घटना की मार से जुझ रहे है।

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com