Friday, September 25, 2020
Home विशेष Vishwa Hindi Diwas 2020: हिन्दी दिवस के बारे में जानें ये ख़ास...

Vishwa Hindi Diwas 2020: हिन्दी दिवस के बारे में जानें ये ख़ास बातें

विश्व हिन्दी दिवस को पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने साल 2006 में लागू किया था। तब से यह हर साल 10 जनवरी को मनाया जाता है।

दुनियाभर में 10 जनवरी को ‘विश्व हिंदी दिवस’ मनाया जाता है। विश्व हिन्दी दिवस को दुनियाभर में पहचान दिलाने के मकसद से शुरू किया गया था। सर्व प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन 10 जनवरी 1975 को नागपुर में आयोजित किय गया था। इस सम्मेलन में दुनिया के 30 देशों से 122 प्रतिनिधि हिस्सा लिए थे। तब से 10 जनवरी के दिन को विश्व हिन्दी दिवस के लिए चुना गया। हालांकि विश्व हिन्दी दिवस को पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने साल 2006 में लागू किया था। तब से यह हर साल 10 जनवरी को मनाया जाता है।

दुनिया में हिंदी भाषी लोगों की संख्या

2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में 520 मिलियन लोग हिंदी भाषी हैं। हिंदी केवल भारत ही नही बल्कि पड़ोसी देश पाकिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश में भी बोली और समझी जाती है। इसके साथ ही दुनियाभर भर में हिन्दी बोली जाती हैं। दुनियाभर में तकरीबन 54 करोड़ लोग हिंदी भाषा बोलते हैं। हिंदी तीसरी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है।



कई देशों में पढ़ाई जाती है हिंदी

दुनिया भर में चीनी और अंग्रेजी के बाद हिन्दी सबसे अधिक बोली जानी वाली भाषा हैं। जानकर हैरानी होगी की तकरीबन 176 यूनिवर्सीटि में हिंदी को एक विषय के रूप में पढ़ाई जाती है।

ऑक्‍सफर्ड ड‍िक्‍शनरी में भी हिंदी शब्द है शामिल

इंग्लिश ड‍िक्‍शनरी ‘ऑक्‍सफर्ड ड‍िक्‍शनरी’ में भी हिन्दी के कई शब्द मिलते है। जैसे- मां, बचपन, प्यार, मिट्टी, अच्छा, नमस्कार को इस डिक्शनरी का हिस्सा बनाया गया है।

फिजी में ऑफिशियल भाषा हिन्दी है

जानकर हैरानी होगी की मेलानेशिया में बसे फिजी में हिंदी प्रमुख भाषा है। फिजी में हिन्दी को ऑफिशियल भाषा का दर्जा मिला हुआ है। यहाँ अधिकतर लोग भारतीय मूल के है, जिनके द्वारा फिजी हिन्दी बोली जाती है। फिजी हिन्दी देवनागरी लिपि और रोमन लिपि दोनों में लिखी जाती है।

हिन्दी क्यों नही बनी भारत की राष्ट्र भाषा

भारत के संविधान में मात्र दो ऑफिशियल भाषाओं का जिक्र था। इसमें किसी ‘राष्ट्रीय भाषा’ का जिक्र था ही नही। इसलिए साल 1965 में हिंदी को सभी जगहों पर आवश्यक बनाने की कोशिश की गई। इस कारण तमिलनाडु में हिंसक आंदोलन होने लगे। आज भी जब हिन्दी को राष्ट्र भाषा बनाने की बात होती है तो कुछ राज्य खासकर दक्षिण भारतीय विरोध करते नजर आते है। यही कारण है कि हिन्दी को राष्ट्र भाषा का दर्जा नही मिल पाया।  



य़े भी पढ़ें-

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो नए केंद्र शासित प्रदेश का इतिहास व वर्तमान स्थिति जानें
Hyderabad History: अतीत और वर्तमान हैदराबाद की शान, इसका भारत में विलय आसान नही था,जानें सबकुछ
Gujrat Vs West Bengal: भारत के इन दो औधोगिक राज्यों में कौन सबसे बेहतर?
Mumbai Vs Delhi: ऐसा क्या है मुंबई में जो दिल्ली में नही है? जान लीजिए सब कुछ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Jyotiba phule : महिलाओं के लिए खोला था पहला स्कूल, महात्मा फूले का जीवनी

ज्योतिबा फुले महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। 19वी सदी में समाज में फैली कई तरह के कुरीतियों को उन्होंने उखार...

नमक कई प्रकार के होते है, जानिए उसके फायदे और नुकसान (Salt)

हम सभी नमक का सेवन करते है। इसमे सोडियम का अच्छा श्रोत पाया जाता है, जो हमारे पाचन क्रिया को बायलेंस करता है। लेकिन क्या आप जानते है कि नमक कितने प्रकार के होते है? आज आपको बताएंगे कि कौन कौन से नमक होते है और कौन से नमक आपके सेहत के लिए फायदेमंद है।

झील में बना भारत का अनोखा महल, पानी में बने 5 मंजिला इमारत की दिलचस्प कहानी

राजस्थान अपने विरास्तों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यहां कुछ ऐसी ऐतिहासिक इमारते है, जो आज भी शानों शौकत से खड़ी है और...

रूस लड़ रहा एक साथ तीन लड़ाई, कोरोना, जंगल की आग और नई सड़क बड़ा ख़तरा

कोरोना वायरस पूरी ​दुनिया के लिए संकट बना हुआ है, जिससे सभी देश लड़ने में लगी हुई है। इसी बीच रूस (Russia) तीसरी मार से जुझ रहा है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) इस समय कोरोना के साथ चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र के पास जंगल में लगी आग और मॉस्को मोटरवे की घटना की मार से जुझ रहे है।

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com