कोरोना वायरस क्या है? कैसै हुई शुरूआत? क्या है लक्षण? कैसे बचे? क्या है इलाज?

कोरोना वायरस पूरी दुनिया में आतंक फैलाए हुए है। आखिर ये कोरोना वायरस है क्या? कहां से इसकी शुरूआत हुई? इसके चपेट में आए मरीज़ का लक्षण क्या है?  क्या क्या सावधानिया है और इलाज क्या है?

1
380
Blog
कोरोना वायरस क्या है? कैसै हुई शुरूआत? क्या है लक्षण? कैसे बचे? क्या है इलाज?

कोरोना वायरस (Corona Virus) पूरी दुनिया के लिए ख़तरा बना हुआ। चीन में ये वायरस महामारी का रूप ले चुकी है, जहां अब तक 1665 से अधिक लोगों के मौत की खबर है। वही दुनिया के लगभग 22 देश कोरोना वायरस के चपेट में है। इसमे भारत का भी नाम शामिल है, जहां अब तक कोरोना वायरस के 3 मामले सामने आए हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पहले ही इसे अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर चुका है। खतरनाक कोरोना वायरस के फैलने से रोकने के लिए डॉक्टर दिन रात काम करे है। वही साइंटिस्ट एंटी कोरोना वायरस की दवाएँ बनाने में जुटे हुए है, लेकिन फिलहाल कोई सफलता हाथ नही लग पाई है। अब जानना जरूरी हो गया है कि आखिर ये कोरोना वायरस है क्या? कहां से इसकी शुरूआत हुई? इसके चपेट में आए मरीज़ का लक्षण क्या है?  क्या क्या सावधानिया है और इलाज क्या है। जानिए सब कुछ इस आर्टिकल में…



आखिर ये कोरोना वायरस है क्या? What is Corona Virus In Hindi

कोरोना वायरस कई प्रकार के विषाणुओं का एक समूह है, जो अस्तनधारी जीव और पक्षियों में इस रोग के कारक मौजूद होते हैं। उन जीवों को अगर इंसान खाता है, तो उनके अंदर मौजूद रोग के कारक इंसानों में फैलते है। हालांकि कौन से अस्तनधारी जीव और पक्षी इसके लिए जिम्मेदार है, ये अब तक साफ नही हो पाया है। इबोला और फ्लू जैसी बीमारी भी इसके अन्य उदाहरण हैं।

कुछ समय पहले एक खबर आई थी कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति दिसंबर में चीन के वुहान में हुआ था। चूंकि यह संक्रमित रोग है, इसलिए ये एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है। डब्लूएचओ के मुताबिक, कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ़ जैसी समस्याएं होती है। 

क्या हैं इस बीमारी के लक्षण? Symptoms Of Corona Virus In Hindi

कोरोना का वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। संक्रमण के कारण मरीज़ में सर्दी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ़, गले में खराश जैसी लक्षण दिखाई पड़ती है। कोरोना वायरस सबसे पहले फेफरे पर अटैक करता है। इस कारण फेफरे की कोशिकाएं खराब होने लगती है और मरीज़ को सांस लेने में तकलीफ़ होने लगता है। बाद में दम घुटने लगता है और मरीज़ की मौत हो जाती है।

मरीज़ों पर परीक्षण के बाद, डॉक्टर ने पाया कि कोरोना वायरस शरीर में दाखिल होने के बाद वह लिवर को भी नुकसान पहुँचाता है। लिवर हमारे शरीर की पाचन क्रिया का हिस्सा है। वह केवल भोजन ही नही पचाता, बल्कि विषैले पदार्थों को शरीर से बाहर भी करता है।

क्या हैं इस बीमारी से बचने के उपाय?  Avoid For Corona Virus

स्वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार, आप अपने हाथ को साबुन-पानी या अल्कोहल युक्त हैंड रब से अच्छी तरह साफ करें। हमेशा साथ में रूमाल रखे। जैसे ही खांसी या छिक आए, उस रूमाल से नाक और मुंह को ढ़क ले। रूमाल ना रहने पर हाथ से ढ़क ले। यदि आप अंडा या मीट खाना चाहते है तो सबसे पहले उसे अच्छी तरह धोए और उसे ज्यादा देर तक पकाएं, तभी खाएं। जिन्हे खांसी या जुखाम है, उनसे दूर ही रहे। अगर आप किसी विदेश दौरे पर जा रहे है, या कहीं घूमने का प्लान कर लिए है तो ध्यान रहे, वहां बिलकुल ना जाएं जहां कोरोना वायरस का प्रकोप है।



क्या है कोरोना वायरस के मरीज का इलाज? Tritment For Corona Virus 

जिस एंटीरेट्रोवायरल्स (antiretrovirals) से एचआईवी या एड्स का इलाज किया जाता है। इस समय उसी एंटीरेट्रोवायरल्स से एक मानक के तहत कोरोना वायरस के मरीज़ों का इलाज करने की कोशिश हो रही है। चीन इसी प्रक्रिया पर काम कर रहा है।

बता दे कि अभी तक कोरोना वायरस को लेकर वैक्सीन की खोज नहीं हो पाई है। इसको लेकर कोई दवा भी नहीं बनी है और ना ही कोई टीका बन पाया है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here