Tuesday, August 11, 2020
Home इतिहास क्या महात्मा गांधी ने कंगाल पाकिस्तान को 55 करोड़ दिलवाए थे? जानें...

क्या महात्मा गांधी ने कंगाल पाकिस्तान को 55 करोड़ दिलवाए थे? जानें पूरी कहानी

महात्मा गांधी ने कंगाल पाकिस्तान को 55 करोड़ दिलवाए। ये आरोप भारत के दक्षिणपंथी समुदाय गांधी पर आरोप लगाते है। अक्सर ये लोग गांधी को विलेन साबित करने में लगे रहते है। ऐसे में सच्चाई जानना जरूरी है कि क्या सच में गाँधी ने ही पाकिस्तान को कंगाली के हालत में 55 करोड़ रूपये की मदद पहुँचाई थी?



    1. दरअसल जब अंग्रेजों ने भारत का बंटवारा करके अलग पाकिस्तान बनाया था तो केवल ज़मीन का ही बंटवारा नही किया था, बल्कि संसाधनों का भी बंटवारा किया था।
    2. जब अंग्रेजों ने भारत को आज़ादी दी, तब भारतीय रिजर्व बैंक में कूल 155 करोड़ रुपये थे। बंटवारे के बाद इन पैसों पर आधा भारत का और आधा पाकिस्तान का हिस्सा बन रहा था।
      News
    3. चुकी इस समझौते के तहत भारत को पाकिस्तान को 75 करोड़ रूपये देना था। उस समय भारत सरकार ने इन पैसों में से 20 करोड़ रुपए पाकिस्तान को दे दिया था। बाकी 55 करोड़ रूपये भारत को देना था।
    4. 55 करोड़ रूपये मिलने से पहले ही पाकिस्तान ने कश्मीर पर हमला कर दिया। इस पर तत्कालीन गृहमंत्री सरदार पटेल ने कश्मीर में सेना भेजवाकर पाकिस्तान की कमर तोड़ दी।
      News
    5. पाकिस्तान के इस हमले पर तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और सरदार पटेल ने सख्ति दिखाते हुए पाकिस्तान को 55 करोड़ रूपये ना देने का फैसला किया।
    6. पंडित नेहरू और सरदार पटेल नही चाहते थे कि पाकिस्तान 55 करोड़ रूपये लेकर भारत के खिलाफ ही सैन्य ताक़तों पर ख़र्चा करे, इसलिए काफी विरोध के बावजूद दोनों ने 55 करोड़ रूपये देने से इंकार कर दिया।


      ये भी पढे़ं- Mahatma Gandhi Death Story: महात्मा गांधी की हत्या की पूरी कहानी पढ़ें
    7. चूंकि पैसा देने का समझौता हुआ था। इसलिए भारत के अंग्रेज गवर्नर जनरल लॉर्ड माउंटबेटन ने महात्मा गांधी से शिकायत की। उसने कहा कि पाकिस्तान को जो पैसे देने का समझौता हुआ था उसे दे देना चाहिए। महात्मा गांधी भी यही सोचते थे।
      News

    8. महात्मा गाँधी ने पंडित नेहरू और सरदार पटेल को पाकिस्तान का पैसा लौटाने को कहा। पंडित नेहरू और सरदार पटेल ने गांधी को बताया कि पाकिस्तान इस रकम से हथियार खरीदेगा और भारत के खिलाफ ही इस्तेमाल करेगा। लेकिन गांधीजी का कहना था कि भारत को बदले की नीति नहीं अपनानी चाहिए और समझौते के मुताबिक व नैतिकता के आधार पर पाकिस्तान के हिस्से के पैसे दे देने चाहिए।
    9. उस समय पाकिस्तान पूरी तरह से कंगाल हो चुका था। पाकिस्तान को जब पता चला कि भारत ने 55 करोड़ रूपये देने से इंकार कर दिया है, तो पाकिस्तान सरकार की सांप सुघ गई। पाकिस्तान को चलाने के लिए कामचलाऊ राशि भी खत्म हो चुकी थी। पाकिस्तान सरकार लगातार भारत से पैसे की मांग करने लगी।
      News
    10. महात्मा गांधी के लाख समझाने के बाद भी पंडित नेहरू और सरदार पटेल ने जब पाकिस्तान को पैसे नही लौटाए तो पहले उन्होंने अनशन पर जाने की धमकी दे डाली। उसके बाद वे अनशन पर बैठ गए। तीन दिन अनशन के हुए ही थे कि गांधी की तबियत बिगड़ने लगी। पंडित नेहरू और सरदार पटेल समेत तमाम नेताओं को समझ में नही आ रही थी कि आखिर बापू पाकिस्तान के लिए क्यों खुद के कष्ट दे रहे है।



11. उपवास के तीसरे दिन गांधी की स्थिति बहुत बिगड़ गई। फिर भी सरदार पटेल तो नही झुके, लेकिन पंडित नेहरू का दिल पिसज गया और गांधी की बात मान ली। गांधी ने अपना अनशन तोड़ दिया।News

12. आखिर में भारत सरकार ने 15 जनवरी 1948 को पाकिस्तान के 55 करोड़ रुपए देने की घोषणा कर दी। पाकिस्तान के पैसे मिलने के कुछ समय बाद ही उसने फिर से भारत पर हमला किया। बताया गया कि पाकिस्तान ने उस पैसे को भारत के खिलाफ ही इस्तेमाल किया।

क्या महात्मा गांधी ने कंगाल पाकिस्तान को 55 करोड़ दिलवाए थे। आशा है आपको उत्तर मिल गया होगा। आर्टिकल पसंद आया हो तो लाइक करें। कोई सुझाव देना चाहते है तो कमेंट करें। हमसे जुड़े रहने के लिए Subscribe करें। धन्यवाद!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Jyotiba phule : महिलाओं के लिए खोला था पहला स्कूल, महात्मा फूले का जीवनी

ज्योतिबा फुले महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। 19वी सदी में समाज में फैली कई तरह के कुरीतियों को उन्होंने उखार...

नमक कई प्रकार के होते है, जानिए उसके फायदे और नुकसान (Salt)

हम सभी नमक का सेवन करते है। इसमे सोडियम का अच्छा श्रोत पाया जाता है, जो हमारे पाचन क्रिया को बायलेंस करता है। लेकिन क्या आप जानते है कि नमक कितने प्रकार के होते है? आज आपको बताएंगे कि कौन कौन से नमक होते है और कौन से नमक आपके सेहत के लिए फायदेमंद है।

झील में बना भारत का अनोखा महल, पानी में बने 5 मंजिला इमारत की दिलचस्प कहानी

राजस्थान अपने विरास्तों के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यहां कुछ ऐसी ऐतिहासिक इमारते है, जो आज भी शानों शौकत से खड़ी है और...

रूस लड़ रहा एक साथ तीन लड़ाई, कोरोना, जंगल की आग और नई सड़क बड़ा ख़तरा

कोरोना वायरस पूरी ​दुनिया के लिए संकट बना हुआ है, जिससे सभी देश लड़ने में लगी हुई है। इसी बीच रूस (Russia) तीसरी मार से जुझ रहा है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) इस समय कोरोना के साथ चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र के पास जंगल में लगी आग और मॉस्को मोटरवे की घटना की मार से जुझ रहे है।

Recent Comments

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com